बांस के बोतल के व्यापार में है लाखो का मुनाफा, सरकार भी करेगी सहयोग, 2 लाख से करे शुरुवात

Must Try

कहते है दुनिया ने सफल वही होते है जो मौके के फायदे उठाना जानते हो। बात अगर व्यापार का हो तोह ये बात और भी ज्यादा मायने रखता है। दुनिया में हर रोज़ जाने कई लोग अपना व्यापार शुरू करते है लेकिन उनमे से सफल बहुत ही कम होते। किसी महान शख्स ने कहा है के “अगर आप व्यापार करते है तो आपको अपने वातावरण का ध्यान रखना होगा और लोगो के जरूरतों को समझना होगा, तभी आप एक सफल व्यापारी बन सकेंगे”। अगर सीधे तौर पे बात करे तो आपको मौके के नजाकत के हिसाब व्यापार करना होगा वरना आप बाजार से बाहर हो जाएंगे या आपके व्यापार में नुकसान होने लगेगा।

हम सब इस बात से अच्छे से परिचित है के प्लास्टिक किस तरह से ये हमारे और दूसरे जीव के सेहत और पर्यावरण के लिए कितना नुकसानदेह है लेकिन आज प्लास्टिक हमारे दैनिक जीवन में इस तरह से जगह बना चुका है के इससे आसानी से छुटकारा नही पाया जा सकता है। पिछले कुछ सालो में सरकारे प्लास्टिक को कंट्रोल और सीमित इस्तेमाल के लिए कई सारी नीतियां बनाई है। अब जब प्लास्टिक को कंट्रोल और सीमित करने के किये नीतियां बनाई गयी है तो वो हमारे प्लास्टिक इस्तेमाल की जिंदगी को भी प्रभावित करेंगी। ऐसे में हमे वैकल्पिक प्रोडक्ट जो वातावरण और सेहत के लिए सही हो, उसके तरफ जाना होगा।

Big boost for Tripura's eco-friendly items! Rising global demand for bamboo  water bottles made in Agartala - The Financial Express

रोज़मर्रा के जिंदगी में इस्तेमाल होने वाली सिंगल यूज़ प्लास्टिक पे भी सरकार ने प्रतिबंध लगा दिया है और आने वाले समय में हो सकता है के प्रतिबंध और तरह के प्लास्टिक पे भी लगे। इसी को ध्यान में रखते हुए कुछ लोग बांस के बोतल, स्ट्रॉ और प्याले बनाने शुरू कर दिए है। इस तरह के व्यापार से वो अच्छी गाढ़ी कमाई भी कर रहे है। चलिए आपको बताते है इस नया बिसनेस प्लान के बारे में।

इस व्यापार को लगभग 2 लाख भारतीय रुपये लगा कर शुरू किया जा सकता है। इसके लिए इसमे से आपको 170000 रुपये का कच्चा माल खरीदना होगा। बांस के एक बोतल की कीमत 300 रुपये से शुरू होगी जिसकी छमता कम से कम 750 एमएल होगी। खबर है के इसकी खादी दुकानों में इसकी बिक्री 2 अक्टूबर से शुरू हो जाएगी।

बताते चले के बांस से बोतल, स्ट्रॉ और प्याले बनाने के अलावा इस से घरो के लिए सजावटी समान, ज्वेलरी, फर्नीचर आदि आसानी से बनाया जा सकता है। हाल ही में CBRI ने कंस्ट्रक्शन के कामो में बांस के इस्तेमाल की इजाजत दे दिया है और आने वाले समय में सीमेंट शेड के जगह बांस का शेड का बनाने का चलन बढ़ने का आशंका है।

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -spot_img

Latest Recipes

- Advertisement -spot_img

More Recipes Like This

- Advertisement -spot_img